Skip to content

Patanjali Arshkalp Vati in Hindi: पतंजलि अर्शकल्प वटी के फायदे / नुकसान और उपयोग

Patanjali Arshkalp Vati in Hindi
Patanjali Arshkalp Vati in Hindi



Patanjali Arshkalp Vati in Hindi एक ओवर-द-काउंटर आयुर्वेदिक दवा है, जिसका उपयोग मुख्य रूप से बवासीर और पाचन तंत्र के रोगों के इलाज के लिए किया जाता है। इसके अलावा कुछ अन्य समस्याओं के लिए भी Patanjali Arshkalp Vati का उपयोग किया जा सकता है। इनके बारे में विस्तृत जानकारी नीचे दी गयी है. Patanjali Arshkalp Vati की मुख्य सामग्रियां हरीतकी (हरड़), कपूर, नीम और एलोवेरा हैं जिनकी प्रकृति और गुण नीचे बताए गए हैं। Patanjali Arshkalp Vati की उचित खुराक रोगी की उम्र, लिंग और चिकित्सा इतिहास पर निर्भर करती है। यह जानकारी खुराक सेक्शन में विस्तार से दी गई है।

पतंजलि दिव्य अर्शकल्प वटी सक्रिय सामग्री: Patanjali Arshkalp Vati Ingredients

1. हरीतकी (हरड़)

सूजन को कम करने के लिए उपयोग किए जाने वाले एजेंट या पदार्थ। पेट के अल्सर को ठीक करने के लिए उपयोगी एजेंट। ये दवाएं मल त्याग की प्रक्रिया में सुधार करती हैं और कब्ज से राहत दिलाने में उपयोगी होती हैं।

2. कपूर

ऐसे तत्व जो क्रीम या घोल के रूप में माइक्रोबियल विकास को रोकते हैं। त्वचा पर बाहरी रूप से लगाई जाने वाली एक दवा जो रक्त वाहिकाओं को चौड़ा करके और रक्त के प्रवाह को बढ़ाकर त्वचा में लालिमा और जलन पैदा करती है।

3. नीम

ये दवाएं चोट के कारण होने वाली सूजन को कम करती हैं। ऐसे तत्व जिनका उपयोग मुक्त कणों की गतिविधि को कम करने और ऑक्सीडेटिव तनाव (मुक्त कणों के निर्माण और शरीर पर उनके हानिकारक प्रभावों के बीच असंतुलन) को रोकने के लिए किया जाता है। इन दवाओं का उपयोग गैस्ट्रोइंटेस्टाइनल ट्रैक्ट में अल्सर को नियंत्रित करने के लिए किया जाता है। दवाएं जो त्वचा के छिद्रों को सिकोड़ती हैं और शरीर की कोशिकाओं को सिकोड़ती हैं।

4. एलोविरा

दवाएं जिनका उपयोग दर्द को नियंत्रित करने और बेहोशी (चेतना की हानि) को रोकने के लिए किया जाता है। चोट या संक्रमण के कारण होने वाली सूजन को कम करने के लिए दवा। वह तत्व जो जीवित कोशिकाओं में मुक्त कणों के ऑक्सीकरण के प्रभाव को रोकता है। वे पदार्थ जो प्रतिरक्षा प्रणाली के कार्य को उत्तेजित या दबाने का काम करते हैं। दवाएं जो बैक्टीरिया को बढ़ने से रोकती हैं।

पतंजलि दिव्य अर्शकल्प वटी के फायदे: 

दिव्य अर्शकल्प वटी का उपयोग इन रोगों के इलाज में किया जाता है।
मुख्य लाभ
  • बवासीर
  • पाचन तंत्र के रोग
अन्य लाभ
  • अपच

पतंजलि दिव्य अर्शकल्प वटी खुराक: Patanjali Divya Arshakalp Vati Dose

यह ज्यादातर मामलों में अनुशंसित Patanjali Arshkalp Vati की खुराक है। कृपया याद रखें कि प्रत्येक मरीज और उनका मामला अलग हो सकता है। इसलिए Patanjali Arshkalp Vati की खुराक रोग, प्रशासन के मार्ग, रोगी की उम्र, रोगी के चिकित्सा इतिहास और अन्य कारकों के आधार पर भिन्न हो सकती है।
वयस्क खुराक: निर्धारित खुराक का प्रयोग करें
खाने के बाद या पहले: खाने से पहले
अधिकतम मात्रा: 2 गोलियाँ
प्रशासन की विधि: गुनगुना पानी
दवा का प्रकार: बटी (गोलियाँ)
प्रशासन का मार्ग: मुँह
आवृत्ति (कितनी बार दवा लें): दिन में दो बार
दवा लेने की अवधि: 3 सप्ताह
बुजुर्ग खुराक: निर्धारित खुराक का प्रयोग करें
खाने के बाद या पहले: खाने के बाद
अधिकतम मात्रा: 2 गोलियाँ
प्रशासन की विधि: गुनगुना पानी
दवा का प्रकार: बटी (गोलियाँ)
प्रशासन का मार्ग: मुँह
आवृत्ति (कितनी बार दवा लें): दिन में दो बार
दवा लेने की अवधि: 3 सप्ताह

पतंजलि दिव्य अर्शकल्प वटी के साइड इफेक्ट्स: Side Effects of Patanjali Divya Arshakalp Vati

चिकित्सा साहित्य में Patanjali Arshkalp Vati का कोई दुष्प्रभाव नहीं पाया गया है। हालाँकि, Patanjali Arshkalp Vati का उपयोग करने से पहले हमेशा अपने चिकित्सक से परामर्श करें।

आगे और पढ़िए:-

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *